जीवन की नाव

एक संत थे। उनके कई शिष्य उनके आश्रम में रहकर अध्ययन करते थे। एक दिन एक महिला उनके पास रोती हुए आई और बोली, ‘बाबा, मैं लाख प्रयासों के बाद भी अपना मकान नहीं बना पा रही हूं। मेरे रहने का कोई निश्चित ठिकाना नहीं है। मैं बहुत अशांत और दु:खी हूं। कृपया मेरे मन को शांत करें।’

उसकी बात पर संत बोले, ‘हर किसी को पुश्तैनी जायदाद नहीं मिलती। अपना मकान बनाने के लिए आपको नेकी से धनोपार्जन करना होगा, तब आपका मकान बन जाएगा और आपको मानसिक शांति भी मिलेगी।’ महिला वहां से चली गई। इसके बाद एक शिष्य संत से बोला, ‘बाबा, सुख तो समझ में आता है लेकिन दु:ख क्यों है? यह समझ में नहीं आता।’

उसकी बात सुनकर संत बोले, ‘मुझे दूसरे किनारे पर जाना है। इस बात का जवाब मैं तुम्हें नाव में बैठकर दूंगा।’ दोनों नाव में बैठ गए। संत ने एक चप्पू से नाव चलानी शुरू की। एक ही चप्पू से चलाने के कारण नाव गोल-गोल घूमने लगी तो शिष्य बोला, ‘बाबा, अगर आप एक ही चप्पू से नाव चलाते रहे तो हम यहीं भटकते रहेंगे, कभी किनारे पर नहीं पहुंच पाएंगे।

उसकी बात सुनकर संत बोले, ‘अरे तुम तो बहुत समझदार हो। यही तुम्हारे पहले सवाल का जवाब भी है। अगर जीवन में सुख ही सुख होगा तो जीवन नैया यूं ही गोल-गोल घूमती रहेगी और कभी भी किनारे पर नहीं पहुंचेगी। जिस तरह नाव को साधने के लिए दो चप्पू चाहिए, ठीक से चलने के लिए दो पैर चाहिए, काम करने के लिए दो हाथ चाहिए, उसी तरह जीवन में सुख के साथ दुख भी होने चाहिए।

जब रात और दिन दोनों होंगे तभी तो दिन का महत्व पता चलेगा। जीवन और मृत्यु से ही जीवन के आनंद का सच्चा अनुभव होगा, वरना जीवन की नाव भंवर में फंस जाएगी।’ संत की बात शिष्य की समझ में आ गई।

 

प्रयासप्रयास का ब्लौगनरेश का ब्लौगयह भी खूब रही, पुरानी कहानियाँ, pryaspryas ka , blog, naresh ka blog, yah bhi khoob rahi, purani kahaniyan,जीवन की नाव

10 responses to “जीवन की नाव

  1. यह सही है कि दोनो चप्पू होने चाहियें। भगवान कभी किसी का सुख वाला चप्पू काफी कमजोर बना देते हैं, तब भी मामला गड़बड़ा जाता है।

  2. सिक्के के दो पहलू, नाव के दो चप्पू, दुख और सुख; सत्य वचन

  3. यह सही है कि दोनो चप्पू होने चाहियें। भ

  4. Agree sikke ke do pahlu hote hai pr dono pahul barabar hone chahiye na, agar ka halka or dusri taraf ka pahlu bhari hoga to navv to apne aap hi dub jayegi na

  5. ni
    kuk hm navv m baithkr usko barabr kr denge

  6. khuda or bhagwan ko maan na ek andh wishvas hai….or sabhi ye bhi kehte hai ki humen andh viswasi nahi hona chahiye….fir hum is baat par kaise yakin kar lete hain ki bhagwan hai…..jaise hum aapne bachon ko darate hain ..chup ho ja bete nahi to bhoot aa jayega …waise hi humen khuda bhagwan ke naam par daraya jaata hai