पेशे की इज्जत

यह घटना उन दिनों की है जब फ्रांस में विद्रोही काफी उत्पात मचा रहे थे। सरकार अपने तरीकों से विद्रोहियों से निपटने में जुटी हुई थी। काफी हद तक सेना ने विद्रोह को कुचल दिया था , फिर भी कुछ शहरों में स्थिति खराब थी। इन्हीं में से एक शहर था लिथोस। लिथोस में विद्रोह पूर्णतया दबाया नहीं जा सका था , लिहाजा जनरल कास्तलेन जैसे कड़े अफसर को वहां नियंत्रण के लिए भेजा गया। कास्तलेन विद्रोहियों के साथ काफी सख्ती से पेश आते थे।

इसलिए विद्रोहियों के बीच उनका खौफ भी था और वे उनसे चिढ़ते भी थे। इन्हीं विद्रोहियों में एक नाई भी था , जो प्राय : कहता फिरता – जनरल मेरे सामने आ जाए तो मैं उस्तरे से उसका सफाया कर दूं। जब कास्तलेन ने यह बात सुनी तो वह अकेले ही एक दिन उसकी दुकान पर पहुंच गया और उसे अपनी हजामत बनाने के लिए कहा। वह नाई जनरल को पहचानता था। उसे अपनी दुकान पर देखकर वह बुरी तरह घबरा गया और कांपते हाथों से उस्तरा उठाकर जैसे – तैसे उसकी हजामत बनाई।

काम हो जाने के बाद जनरल कास्तलेन ने उसे पैसे दिए और कहा – मैंने तुम्हें अपना गला काटने का पूरा मौका दिया। तुम्हारे हाथ में उस्तरा था , मगर तुम उसका फायदा नहीं उठा सके। इस पर नाई ने कहा – ऐसा करके मैं अपने पेशे के साथ धोखा नहीं कर सकता था। मेरा उस्तरा किसी की हजामत बनाने के लिए है किसी की जान लेने के लिए नहीं। वैसे मैं आपसे निपट लूंगा जब आप हथियारबंद होंगे। लेकिन अभी आप मेरे ग्राहक हैं। कास्तलेन मुंह लटकाकर चला गया।

प्रयास, प्रयास का ब्लौग, नरेश का ब्लौग, यह भी खूब रही, पुरानी कहानियाँ, pryas, pryas ka blog, naresh ka blog, yah bhi khoob rahi, purani kahaniyan

15 responses to “पेशे की इज्जत

  1. … तो निष्कर्ष यह निकला कि व्यवसायनिष्ठा/लाभ/माया आदि से ऊपर उठे बिना बड़े उद्देश्य की प्राप्ति नहीं होती।

  2. हजामत बनाने में तो जैसा भी रहा हो, लेकिन हाजिरजवाब तो पूरा निकला:)

  3. kash sabhi log apne oeshe ki ijjat karen to sansaar hi sukhamaye ho jaye

  4. yah kahani kahi padhi hui lag rahi hai? kya aapne dainik bhaskar ke rasrang se li hai?

  5. Na saathi na humsafar hai koi,
    Na kisike hum na hamara hai koi,
    Par aapko dekh ke keh sakate hai,
    Ek pyaara sa dost hamara bhi hai koi.

  6. agar ham samajh saken to bahut sahi shiksha di us naai ne… ” jo bhi karen use puri nishtha aur imandari se karna chahiye”

  7. GOKUL PRASAD SONI, DY. MANAGER,SBI-BANKHEDI (HOSHANGABAD) MP.

    KAHANI BAHUT BADHIYA HAI, DHANYAWAD. NAI NE JAHAN APNE PESHE KI IJJAT RAKHI WAHIN HAJIRJAWABI SE APNI JATI KI IJJAT RAKH LI
    GOKUL SONI , VYANGYA-KAVI MOB.9755331831

  8. Ha haHa ha
    Ha haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa haHa ha maja aaaya

  9. hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh

    iugytiyfychvrsxdytcgudtyhjbsrdytcnvttiuxzddhg

  10. nnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn
    iiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii
    cccccccccccccccccccccccccccc
    eeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee

  11. yadi log shamaj sakha to

  12. KYA IS JMANE ME HMESA HI EK SUNDR WYAKTI HI SK KUCHH KR SKTA HA? KYU LOG SUNDARTA KO PASND KRTE HAI? AKHIR SUNDARTA HAI KYA? KYA HME JMANE ME KEWAL IS LIYE BHEJA GYA HI LOG KAH SKE KI ISSE LAKH GUNA ACHCHHA TO WH HAI! DEKHO KITNA BDSURT INSAN AA GYA HAI! AAKHIR KB TK HM JAMANE KI IS TRH KI BOLIYO KO SAH K CHUP RH SKENGE! KB TK SUNE KI LOGO A MUH BAND HO JAYE! YA KHUDA KBHI KISI JINDAGI ME AISA DIN NA LANA KI UASE HMARI TRH UPECHIT HONA PDE! AUR WH AATM HTYA K BARE ME SOCHE SBKE KHUSHHAL JIWAN DENA PRABHU NHI TO JIWAN HI NA DENA AGR KHUSAHALI NA DE SKE TO! KBHI KISI KO RULANA MT NATH!

  13. KYA IS JMANE ME HMESA HI EK SUNDR WYAKTI HI SK KUCHH KR SKTA HA? KYU LOG SUNDARTA KO PASND KRTE HAI? AKHIR SUNDARTA HAI KYA? KYA HME JMANE ME KEWAL IS LIYE BHEJA GYA HI LOG KAH SKE KI ISSE LAKH GUNA ACHCHHA TO WH HAI! DEKHO KITNA BDSURT INSAN AA GYA HAI! AAKHIR KB TK HM JAMANE KI IS TRH KI BOLIYO KO SAH K CHUP RH SKENGE! KB TK SUNE KI LOGO A MUH BAND HO JAYE! YA KHUDA KBHI KISI JINDAGI ME AISA DIN NA LANA KI UASE HMARI TRH UPECHIT HONA PDE!