विश्वास की रक्षा

बात तब की है जब अमर शहीद राम प्रसाद बिस्मिल पकड़ लिए गए। उन्हें कोतवाली लाया गया। कोतवाली में निगरानी रखने वाला सिपाही सो रहा था। बिस्मिल के पास भागने का पूरा मौका था। उन्होंने देखा कि वहां केवल बुजुर्ग मुंशीजी जागे हुए हैं। बूढ़े मुंशी ने भांप लिया कि बिस्मिल भागने की सोच रहे हैं। वह तुरंत बिस्मिल के पैरों पर गिर गए और बोले, ‘ऐसा न करना। नहीं तो मैं बंदी बना लिया जाऊंगा और मेरे बच्चे भूखों मर जाएंगे।’

बिस्मिल को उन पर दया आ गई और उन्होंने भागने का विचार तत्काल त्याग दिया। संयोगवश दो दिनों के बाद ही ऐसा मौका उन्हें फिर मिला। उन्हें जब शौचालय ले जाया गया तो उनके साथ दो सिपाही थे। एक ने दूसरे से कहा कि इनके हाथों में बंधी रस्सियां हटा दो। मुझे विश्वास है कि ये भागेंगे नहीं। इसके बाद जब बिस्मिल शौचालय गए तो पाया कि शौचालय की दीवार ज्यादा ऊंची नहीं है। बस हाथ बढ़ाते ही वह दीवार के ऊपर हो जाते और क्षण भर में बाहर निकल जाते।

उन्होंने देखा कि बाहर सिपाही कुश्ती देखने में मगन हैं। वह भागने ही वाले थे कि उन्हें विचार आया कि जिस सिपाही ने विश्वास कर इतनी स्वतंत्रता दी उससे विश्वासघात कैसे करूं। उन्होंने भागने का विचार तुरंत त्याग दिया। उन्होंने अपनी आत्मकथा में जेलर पंडित चंपालाल की भी काफी बड़ाई की है। उन्हें भागने के कई मौके हासिल हुए लेकिन उन्होंने सोचा कि इससे पंडित चंपालाल के ऊपर आफत आ जाएगी। बिस्मिल के लिए विश्वास की रक्षा सबसे बड़ी चीज थी।

pryas, प्रयास, यह भी खूब रही, yah bhi khoob rahi, नरेश का ब्लौग, प्रयास का ब्लौग, pryas ka blog, पुरानी कहानीयाँ, purani kahaniyan, विश्वास की रक्षा, अमर शहीद राम प्रसाद बिस्मिल, राम प्रसाद बिस्मिल, naresh ka blog, vishwas ki raksha, amar shahid ram prasad bismil, ram prasad bismil

Advertisements

7 responses to “विश्वास की रक्षा

  1. विश्वास की रक्षा यत्नपूर्वक सभी को करनी चाहिये। वृत्तं यत्नेन संरक्षेत् वित्तं आयातियाति च।

  2. वृत्तं यत्नेन संरक्षेत् सर्वान् मनुष्यान्।

  3. aapka blogg dekha bahut badhiya ..sadhuvaad !! lage rahiye aap ke prayas sarahniy or utaam hai !! iti shubham !!

  4. वृत्तं यत्नेन संरक्शेद् वित्तमायाति याति च ।

  5. महोदय,आपके websites में मौजूद कथाओं के द्वारा हम अपने छात्रों के शैक्षिक,सामाजिक,सांस्कृतिक,राष्ट्रीय एवं नैतिक मूल्यों के विकास हेतु आपकी उपदेश प्रेरक कथाएं व उनके संदर्भों का उपयोग अपने Hindi Reading Cards में करने के इच्छुक हैं । हम यह कार्य किसी प्रचार माध्यम या आर्थिक लाभ के लिए नहीं करना चाहते हैं अपितु शिक्षा हेतु करना चाहते हैं । मूल सूत्र कथा को छुए बगैर आंशिक रूप से छात्रों के स्तरानुसार इनमें परिवर्तन करेंगे ।
    बेसब्री से आपके लिखित अनुमोदन हेतु
    आपके निवेदक(पद्मजा,सुषमा,सरसवाणी- प्राथमिक शिक्षिकाएँ)
    केंद्रीय विद्यालय २- गोलकोंडा ( हैदराबाद)

  6. bahut achchhi kahaniya hain

  7. mujhe vishwas kerne se bahut hi bara vishwas ghat hua.