ईर्ष्या का बोझ

 एक बार एक गुरु ने अपने सभी शिष्यों से अनुरोध किया कि वे कल प्रवचन में आते समय अपने साथ एक थैली में बड़े-बड़े आलू साथ लेकर आएं। उन आलुओं पर उस व्यक्ति का नाम लिखा होना चाहिए, जिनसे वे ईर्ष्या करते हैं। जो शिष्य जितने व्यक्तियों से ईर्ष्या करता है, वह उतने आलू लेकर आए।

अगले दिन सभी शिष्य आलू लेकर आए। किसी के पास चार आलू थे तो किसी के पास छह। गुरु ने कहा कि अगले सात दिनों तक ये आलू वे अपने साथ रखें। जहां भी जाएं, खाते-पीते, सोते-जागते, ये आलू सदैव साथ रहने चाहिए। शिष्यों को कुछ समझ में नहीं आया, लेकिन वे क्या करते, गुरु का आदेश था। दो-चार दिनों के बाद ही शिष्य आलुओं की बदबू से परेशान हो गए। जैसे-तैसे उन्होंने सात दिन बिताए और गुरु के पास पहुंचे। गुरु ने कहा, ‘यह सब मैंने आपको शिक्षा देने के लिए किया था।

जब मात्र सात दिनों में आपको ये आलू बोझ लगने लगे, तब सोचिए कि आप जिन व्यक्तियों से ईर्ष्या करते हैं, उनका कितना बोझ आपके मन पर रहता होगा। यह ईर्ष्या आपके मन पर अनावश्यक बोझ डालती है, जिसके कारण आपके मन में भी बदबू भर जाती है, ठीक इन आलूओं की तरह। इसलिए अपने मन से गलत भावनाओं को निकाल दो, यदि किसी से प्यार नहीं कर सकते तो कम से कम नफरत तो मत करो। इससे आपका मन स्वच्छ और हल्का रहेगा।’ यह सुनकर सभी शिष्यों ने आलुओं के साथ-साथ अपने मन से ईर्ष्या को भी निकाल फेंका।

संकलन: लखविन्दर सिंह
नवभारत टाइम्स में प्रकाशित

ईर्ष्या का बोझ, शिष्यों से अनुरोध, अनावश्यक बोझ, खाते-पीते, सोते-जागते, प्रयास, प्रयास का ब्लौग, नरेश का ब्लौग, पुरानी कहानियाँ, irshiya ka bojh, shishyon se anurody, anavashyak bojh, khate peete, sote jaagte, pryas, pryas ka blog, naresh ka blog, puraani kahaniyan

Advertisements

11 responses to “ईर्ष्या का बोझ

  1. प्रवीण पाण्डेय

    ईर्ष्या को इससे सुन्दर तरीके से नहीं समझाया जा सकता ।

  2. Good paragraph which provides we should leave jealous.

  3. बहुत ही अच्छी कथा है. धन्यवाद

  4. बहुत ही अच्छी कथा है. धन्यवाद

  5. Good story in modern age.

  6. kya aaj ke yug me aise guru hai jo aane wali pidhi ka disha nirdeshan kar sake

  7. Dhanyabad, hame Aapki in kahaniyon se ek nai disha milti hai,aur ham bhi un shishyo ki tarha apne man se irshya nikal ka prayas karenge.

  8. kash hum har bakat in batto ka anusaran kar sake