धनतेरस की कहानी

भारत त्यौहारों का देश है। विभिन्न त्यौहारों पर अलग-अलग पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं. इसी प्रकार धनतेरस पर भी यमराज की एक कथा बहुत प्रचलित है। कथा कुछ इस प्रकार है।

पुराने जमाने में एक राजा हुए थे राजा हिम। उनके यहां एक पुत्र हुआ, तो उसकी जन्म-कुंडली बनाई गई। ज्योतिषियों ने कहा कि राजकुमार अपनी शादी के चौथे दिन सांप के काटने से मर जाएगा। इस पर राजा चिंतित रहने लगे। जब राजकुमार की उम्र 16 साल की हुई, तो उसकी शादी एक सुंदर, सुशील और समझदार राजकुमारी से कर दी गई। राजकुमारी मां लक्ष्मी की बड़ी भक्त थीं। राजकुमारी को भी अपने पति पर आने वाली विपत्ति के विषय में पता चल गया।

राजकुमारी काफी दृढ़ इच्छाशक्ति वाली थीं। उसने चौथे दिन का इंतजार पूरी तैयारी के साथ किया। जिस रास्ते से सांप के आने की आशंका थी, वहां सोने-चांदी के सिक्के और हीरे-जवाहरात आदि बिछा दिए गए। पूरे घर को रोशनी से जगमगा दिया गया। कोई भी कोना खाली नहीं छोड़ा गया यानी सांप के आने के लिए कमरे में कोई रास्ता अंधेरा नहीं छोड़ा गया। इतना ही नहीं, राजकुमारी ने अपने पति को जगाए रखने के लिए उसे पहले कहानी सुनाई और फिर गीत गाने लगी।

इसी दौरान जब मृत्यु के देवता यमराज ने सांप का रूप धारण करके कमरे में प्रवेश करने की कोशिश की, तो रोशनी की वजह से उनकी आंखें चुंधिया गईं। इस कारण सांप दूसरा रास्ता खोजने लगा और रेंगते हुए उस जगह पहुंच गया, जहां सोने तथा चांदी के सिक्के रखे हुए थे। डसने का मौका न मिलता देख, विषधर भी वहीं कुंडली लगाकर बैठ गया और राजकुमारी के गाने सुनने लगा। इसी बीच सूर्य देव ने दस्तक दी, यानी सुबह हो गई। यम देवता वापस जा चुके थे। इस तरह राजकुमारी ने अपनी पति को मौत के पंजे में पहुंचने से पहले ही छुड़ा लिया। यह घटना जिस दिन घटी थी, वह धनतेरस का दिन था, इसलिए इस दिन को ‘यमदीपदान’ भी कहते हैं। भक्तजन इसी कारण धनतेरस की पूरी रात रोशनी करते हैं।

धनतेरस की कहानी, भारत के त्यौहार, भारत की पौराणिक कथाएं, राजा हिम, सोने-चांदी, धन तेरस, दिवाली धनतेरस, पुरानी कहानीयां, भारत की कहानियाँ, दिवाली मुबारक, दिपावली मुबारक, यमदीपदान, यमदीपन की कथा, मां लक्ष्मी, नरेश का ब्लौग, हिन्दी ब्लौग, पुरानी कहानीयों का ब्लौग, यह भी खूब रही, प्रयास,प्रयास का ब्लौग, dhanteres ki kahani, bharat ke tyohaar, bharat ki puranik kahaniyan, puranik kathaein, raja him, sona chandi, dhan teres, diwali dhanters, purani kahani, bharat ki kahaniyan, diwali mubarak, dipawali mubarak, yamdipdaan, yamdipdaan ki katha, maan laxmi, naresh ka blog, hindi blog, purani kahaniyon ka blog, naresh seo, yah bhi khoob rahi, pryas blog, pryas

12 responses to “धनतेरस की कहानी

  1. क्या कहा?
    आज धनतेरस है!!!!!!
    हमें तो जी धनतेरस केवल स्कूल के दिनों में ही याद रहती थी. इस दिन छुट्टी रहती थी.
    अब तो दिवाली की दो दिन की छुट्टी थी, लेकिन एक को इतवार खा गया.

  2. Ye kahni bahut hi achchi lagi
    ki raj kumari apne pati ko kis tarha se bachati hai

  3. bharatiy naari aakhiri sans tak apne pati ki raksha karti hai

  4. बचपन कि दिवालि याद अाति हे

  5. दिवालि के दिन गाय कि पुजा करते हे लेकिन अाने वाले दिनो मे गाय नहि मिलेगि हमे गाय कि रक्षा करनि चाहिये

  6. ye kahani suni thi per aj maalum hua ki dhnteras k se releted