लैंसडौन की सैर – मुसाफिर के साथ भाग – 2

लैंसडौन की सैर – मुसाफिर के साथ भाग – 1

हम कोटद्वार साढे छै: बजे पहुँच गये थे. कोटद्वार एक छोटा सा स्टेशन है. यहाँ से बाहर निकलते ही जीप मिल गई. चालीस रूपय किराया था पाँच साल पहले. आज भी चालीस रूपय ही था, यहाँ नहीं आई महँगाई. वैसे स्टेशन से कुछ दूर ही ट्रांसपोर्ट नगर है जहाँ से दिन भर लैंसडौन के लिये जीप और बसें मिल जाती हैं. बस का किराया करीब तीस रूपय है. नीरज और मैं दोनों डिक्की में सैट हो गये. कुछ ही देर में जीप निकल पडी अपने पर्वतीय रास्तों पर.

कोटद्वार से करीब 18-20 कि.मी. के बाद दुगड्डा आता है. सिलगढ एवं लंगूरगढ के बीच स्थित होने के कारण इस शहर का दुगड्डा पडा. दुगड्डा के बारे में एक रोचक जानकारी मिलती है. यहाँ एक वृक्ष है जिसे चन्द्रशेखर स्मृति वृक्ष कहते हैं. शहीद चन्द्रशेखर आजाद तथा उनके साथीयों को नाथुपुर गाँव के निवासी भवानी सिंह रावत ने जुलाई 1930 के दौरान काकोरी डकैती के समय आमंत्रित किया था. तब प्रशिक्षण के दौरान अपने साथी हजारी लाल चैल बिहारी, विश्वेशरी दयाल तथा भवानी सिंह रावत के साथ शहीद चन्द्रशेखर आजाद के महाने निशानेबाजी का गवाह है ये पेड. इस पेड के पास शहीद चन्द्रशेखर आजाद मेमोरियल पार्क विकसित किया गया है. प्रत्येक वर्ष 27 फरवरी को यहाँ शहीद चन्द्रशेखर आजाद मेला का आयोजन होता है.

दुगड्डा में ही पानी का एक प्राकृतिक स्रोत है. यहाँ पहाडों से बहुत ही ठंडा पानी रिसता है. स्थानीय लोगों ने यहाँ पाईप लगा रखे हैं. अधिकतर गाडीयाँ यहाँ रूकती हैं. हमारी जीप भी यहाँ रूकी और मैं भी अपने आप को रोक न सका. नीरज जी को यहाँ फोटोग्राफी का एक अच्छा मौका मिल गया.

duggadda

दुगड्डा में पानी प्राकृतिक स्रोत

duggadda2

दुगड्डा में पानी प्राकृतिक स्रोत

कुछ देर रुकने के बाद हमारी जीप फिर निकल पडी. दूर तक नजर आते पहाड, उन पर छोटे-छोटे मकान, ऊंचे-ऊंचे वृक्ष बडा ही मनोरम द्र्श्य था वो. मैं तो बस खो ही गया था उन पहाडों पर. करीब आठ बजे हम लैंसडौन की सीमा में पहुँच गये. यहाँ एक चुंगी है जहाँ सभी स्थानीय व्यक्तियों तथा पर्यटकों से एक रूपया टैक्स वसुला जाता है.

लैंसडौन में टैक्सी ने हमें गाँधी चौक पर उतार दिया. गाँधी चौक लैंसडौन का केन्द्र माना जाता है. यहाँ मयूर होटल में बडे ही स्वादिष्ट आलू के पंराठें मिलते हैं. लेकिन हमें परांठों से पहले अपने जानकार का घर ढुंढना था. उनका घर कालेशवर रोड पर है. गाँधी चौक से सदर बाजार होकर कालेशवर रोड आता है. एक-दो बार गलत घर में जा कर हम ठीक जगह पहुँच गये. नीचे एक आँटी रहती हैं. बहुत बुढी हैं. फिर कभी उनके बार में लिखुंगा.

aunti_chow1

ये हैं वो आंटी

उनसे मैं बहुत प्रभावित हूँ. जैसा की नीरज ने बताया है कि वहाँ पर घर बहुत ही छोटे हैं. मेरी दीदी पहली मंजिल पर रहती हैं. उन्होंने हमें देख लिया. हम सीधा ऊपर पहुँच गये. वहाँ गर्मागर्म चाय पी और रात के बचे हुए परांठे खाए.
small_house_lansdown

छोटे-छोटे मकान

neeraj

नीरज जी सलाम

नाश्ता करके मैं तरोताजा होना चाहता था लेकिन नीरज को पहाडों को जीतने की जल्दी थी. दीदी से रास्ता पूछ कर हम निकल पडे टिप-इन-टॉप के लिये. सीधा रास्ते से जाना तो शायद नीरज के शान के खिलाफ था. वो तो बस पहाडों से सीधा मुकाबला करते हुए चल रहा था. हम भी चुपचाप उसका अनुसरण कर रहे थे. टिप-इन-टॉप के रास्ते में पहले सैंट जोन्स स्कूल और उसके बाद सैंट जोन्स चर्च आया. यहाँ से कुछ ही दूर टिप-इन-टॉप था.

pnb

gmvn

toilets

रास्ते की कुछ फोटो

johns_church

सैंट जोन्स चर्च

टिप-इन-टॉप से नीचे जयहरीखाल दिख रहा था. बहुत ही ज्याद खाई थी. नीरज के पैर उछलने लगे बोला – नरेश जी, चलें नीचे. नहींहींहींहीं……. मैं चीखा. यहाँ हमें एक लोकल व्यक्ति मिला उससे काफी जानकारी और रास्तों के बारे में पता चला.

local

लैसडौन का स्थायी निवासी

tip-in-top
टिप-इन-टॉप

कुछ देर टिप-इन-टॉप में बैठ कर हम निकल पडे संतोषी माता के मंदिर. कुछ दूर पैदल चलने के बाद 65 सीढीयाँ चढ कर संतोषी माता के मंदिर पहुँचा जा सकता है. यहाँ कोई पुजारी नहीं था. लेकिन मंदिर बहुत ही साफ और सुंदर था. यहाँ हम करीब एक घंटा बैठे रही. यहाँ नीरज ने मेरी कुछ तस्वीरें लीं.

santoshi_mandir

संतोषी माता का मंदिर

आगे पढीये भुल्ला ताल, दुर्गा मंदिर व कालेशवर मंदिर की सैर.

9 responses to “लैंसडौन की सैर – मुसाफिर के साथ भाग – 2

  1. foto bahut hi achchi hain. kuch aapki foto bhi to dikhao…

  2. खूब घूमे ये नीरज-नरेश की जोड़ी।सुन्दर यात्रा वर्णन्।

  3. very nice dear ! But…. correct a single mistake—> Gandhi chowk u have referred to is in Lansdown and not in Kotdwar !

  4. मस्त तस्वीरें और मस्त घुमाई-बेहतरीन!!

  5. मुनीष जी,
    गलती ठीक कर दी गई है.
    धन्यवाद!!!

  6. नरेश जी, सबसे पहले तो एक और मिस्टेक ठीक करो.
    “दुगड्डा में पानी का स्रोत” के नीचे वाले पैरा में लिखा है कि “हम कोटद्वार की सीमा में पहुँच गए.” इसे ठीक करिए. असल में हम लैंस डाउन की सीमा में पहुंचे थे.
    और जरा फटाफट घुमाइए लैंस डाउन में. आप थोडा सा घुमाते हो फिर राजा की कहानी सुनाने लगते हो. इतने दिन हो गए, अभी तक तो कोटद्वार में ही रुके हुए थे, अब लेदेकर टिप-इन टॉप पहुंचे हैं. थोडी बहुत फुर्ती दिखाइए.
    चलो देखते हैं आप कितना मानते हैं हमारी बात को.

  7. मुसाफिर जी,

    मिस्टेक को ठीक कर दिया गया है. धन्यवाद.

    आपकी बात बिल्कुल मानी जायेगी.

  8. पिंगबैक: लैंसडौन की सैर मुसाफिर के साथ – अंतिम भाग « यह भी खूब रही